10 small Habits That Will Transform Your Life |10 छोटी छोटी आदतें जो आपकी जिंदगी बदल देंगी

10 छोटी छोटी आदतें जो आपकी जिंदगी बदल देंगी

10 छोटी छोटी आदतें जो आपकी जिंदगी बदल देंगी

आज हम उम्र के किसी भी मुकाम पर हों लेकिन लगातार सीख रहें हैं | वक्त के साथ चलने के लिए लगातार सीखना पड़ता है | कोई भी व्यक्ति इस दुनिया में सीख कर पैदा नहीं होता | महान से महान व्यक्ति को भी पहले रेंगना, लुढ़कना और गिर गिर के चलना सीखना पड़ा है | यही Learning process है |
इस धीमी और स्थिर सीखने की प्रक्रिया को जीवन बदलने वाली छोटी छोटी आदतों पर भी लागू किया जा सकता है | यहाँ हम आपको ऐसी ही छोटी छोटी लेकिन बहुत ही बहुत ही महत्वपूर्ण आदतों को अपनी जिंदगी में शामिल करने के बारे में बात करेंगे जिससे आप अपने अस्तव्यस्त जीवन पर नियंत्रण पा सकते हैं इससे आपको पहले से बेहतर महसूस होगा |10 छोटी छोटी आदतें जो आपकी जिंदगी बदल देंगी |

1. एक अतिरिक्त कदम : One additional step

यदि आप सिर्फ एक अतिरिक्त कार्य पूरा करते हैं तो आप क्या हासिल कर सकते हैं ? हर दिन एक अतिरिक्त कदम, एक वर्ष में, आपके द्वारा पूरे किए जाने वाले अतिरिक्त 365 कार्यों को जोड़ता है । हर दिन किये जाने वाले कार्यों की सूची में केवल एक अतिरिक्त कार्य जिन्दगी में बहुत से अंतर ला सकता है | यहां तक कि हर दिन एक छोटा सा काम बड़ी चीजों को पूरा कर सकता है …
ये औसत और महान के बीच अंतर पैदा कर सकता है।
यह आपको आपकी मौजूदा आमदनी से बेहतर कर सकता है।
यह आपको आपके काम से आगे रख सकता है।
यह आपके महान लक्ष्यों तक पहुँचने में आपकी मदद कर सकता है।
हर दिन एक अतिरिक्त कार्य करें
अपना दिन समाप्त करने से पहले, अपनी सूची देखें और केवल और केवल एक और कार्य करें । यह कुछ सरल भी हो सकता है । आपके समय के कुछ ही क्षण लग सकते हैं। लेकिन, यह एक अतिरिक्त कार्य …हर समय और हर दिन … आपकी जिंदगी में अंतर पैदा कर सकते हैं।

2. खुद से पूछिए : आप क्या अच्छा कर सकते हैं ? Ask yourself: what good can you do ?

लिफ्ट का दरवाजा कुछ सेकंड्स के लिए खुला रख कर किसी का इंतज़ार करने का समय अगर आपके पास है तो करना चाहिए | योग करते समय अगर आप 5 मिनट ज्यादा लगा सकते हैं, तो लगाइए | अगर कोई मित्र किसी बीमारी से जूझ रहा है आपके पास समय है तो उसे चेकअप के लिए ले जाएँ | क्यों ? क्योंकि ये ही छोटी छोटी बाते आपको अच्छा महसूस करवाएंगी |
ये बातें अपनी पहचान बनाने या सम्मान पाने के बारे में नहीं हैं, इसे रोजाना के कामों में शामिल करें खासकर तब भी जब कोई आपको नहीं भी देख रहा हो । लेकिन आपकी अच्छी बातों से अगर कोई आपका, आपके समय का या आपकी उदारता का अनुचित लाभ उठाने का प्रयास करे तब उस सम्बन्धी अपनी सीमा तय करें |

3. एक मिनट का नियम अपनाएं : Follow the one minute rule

अगर किसी काम को करने में एक मिनट से भी कम समय लगता है तो खुद को इसे तुरंत करने के लिए उत्साहित करें | किसी के email या text message का जवाब देना हो, किसी को फ़ोन पर कुछ बोलना हो, धोने वाले कपड़ों को बिन में डालना, अपने कोट को सही टांगना, किसी बर्तन को ढकना, या डिब्बे का ढक्कन बंद करना और ऐसा ही बहुत कुछ |
इन सभी कामों में अधिकांश को केवल कुछ सेकंड लगते हैं, लेकिन जब ये काफी इक्कठा हो जाते हैं तो ये एक बोझ महसूस होने लगते हैं | और फिर एक वाक्य आता है “अभी थोड़ी देर में करता हूँ” या फिर “कल कर दूंगा” और फिर वो कल अलगे दिन में बदल जाता है | इसलिए अपनी जिन्दगी में एक मिनट का नियम लागू करें और उस छोटे से काम को तुरंत निपटा दें |

4. लिख लें । write it down

आप बाज़ार सामान लेने गए और वापसी पर पता लगा कि कुछ चीजें तो आप लाना ही भूल गये या फिर ये कि आपके बच्चे ने रात डिनर टेबल पर कुछ कहा पर सुबह आप याद नहीं कर पा रहे हैं कि वो किस विषय पर बात कर रहा था | अगर ऐसा है तो हालत गंभीर हैं | हम ऐसे दिमाग पर भरोसा नहीं कर सकते जो कल रात की बात याद नहीं रख सकता फिर वो 10 साल पुरानी बातें कैसे याद रखेगा | इसके लिए लिखना शुरू करें |
जैसे ही दिमाग में कोई बात आये जो ज़रूरी हो, तो तुरंत लिखे | चाहे वो किसी काम के बारे में आईडिया हो या वो चीज जो आप कभी खरीदना चाहते हों या फिर कोई जगह जहाँ आप घूमना चाहते हों | तुरंत लिख लें | एक सूची, दूसरी सूची और कई सूचियाँ चाहे तो कागज पर लिख कर या स्मार्ट फ़ोन पर, ऐसा कुछ भी जिसे आप भूलना नहीं चाहते ।

5. अपने पैसे के बारे में जानिए : Know about your money

इस जीवन में ज्ञान सबसे बड़ी शक्ति है, भले ही वह ज्ञान आपको आपके क्रेडिट कार्ड ऋण की याद क्यों ना करवाता हो । आपके खातों में कितना पैसा है, इसका सटीक अंदाजा लगाकर आप आर्थिक रूप से सुरक्षित और आश्वस्त होना शुरू हो जाते हैं । अपने खातों को चेक करने की आदत बनाएं । एक बार जब आप ये जान लेंगे कि आपके पास कितना पैसा है, और आप कितना खर्च कर रहे हैं, तो हर बार जब आपका मन किसी गैर जरूरी वस्तु पर खर्च करने के लिए लुभायेगा, तो आप अधिक सतर्कता से निर्णय ले पाएंगे ।
पैसे के प्रति जनून होना और पैसे पर अपनी पकड़ बनाये रखने इन दोनों बातों में थोड़ा अंतर होता है के बीच एक बहुत ही महीन रेखा होती है | कोरोनावायरस के कारण लॉकडाउन के दौरान जब बाजार अचानक का बुरा हाल हो गया और माध्यम वर्ग के लोग जिन्होंने अपने व्यापार या घरेलू जरूरतों के लिए ऋण ले रखा था उसकी EMI तक को चुकाने में असफल रहे | कोई भी कुछ नहीं कर पा रहा था | ऐसे हालातों से निपटने के लिए ये समझना जरुरी है कि आपात काल के लिए पैसा बचा के रखना जरूरी है या गैर जरूरी सामान खरीदना जिसकी आपको शायद जरूरत ही नहीं है।

6. अपनी जिंदगी में एक और जोड़ें : Add one more to your life

अपनी रोजाना की रुटीन में एक और जोड़ने का नियम बनाएं | एक गिलास एक्स्ट्रा पानी पीएं, किसी भी अन्य भाषा का एक वाक्य और जाने, exercise का एक extra set करें, अपने पिग्गी बैंक में एक अतिरिक्त रकम बचत करें, खाने की लिस्ट में एक एक्स्ट्रा सब्जी या सलाद शामिल करें | इस तरह ये “एक और” अपनी रूटीन में जोड़ कर आप बहुत कुछ पा सकते हैं | आप समझ सकते हैं इससे जिंदगी में बहुत कुछ बदल सकता है |

7. अपने कैलेंडर को व्यवस्थित करें : Organize your calendar

नियमित रूप से अपने ऑनलाइन कैलेंडर को व्यवस्थित करने के लिए समय निकालने से आपको महत्वपूर्ण घटनाओं को जानने में मदद मिलती है, जैसे आने वाले बिल, जन्मदिन, और महत्वपूर्ण दिन या घटनाएँ, इस सब के लिए सप्ताह और महीने पहले, आपको तैयारी करने के लिए समय मिल जायेगा ।
इसके लिए आप अपने स्मार्ट फ़ोन में Google कैलेंडर का इस्तेमाल कर सकते हैं | Google कैलेंडर आपके टैक्स भरने की तारीख, आपकी पत्नी, बच्चों, माता पिता तथा दोस्तों के जन्मदिन या wedding anniversary, किसी जरुरी काम को करने की तारीख आदि सबकी जानकारी आपको तय समय पर देता है | जिससे आप अपनी रोजाना की व्यस्तता को जरूरत के अनुसार तय कर सकते हो |

8. अपने साथ एक चीज लाओ : Bring one thing with you

अक्सर घरों में बैड के साइड टेबल पर गैरजरुरी सामान पड़ा रहता है जैसे पानी के गिलास, चाय के कप, पानी की बोतलें आदि | आप जब भी घर में एक कमरे से दुसरे कमरे में या रसोईघर में जाते हैं और अगर आपके हाथ खाली है तो ये देखें कि “कौन सा सामान है जो दुसरे कमरे, रसोईघर या कहीं अन्य पहुँचाने वाला है ?” उसे साथ ले जाए | यही नियम आप अपने दफ्तर, फैक्ट्री या अपनी कार के लिए भी अपना सकते है | ऐसे साथ के साथ काम हो जायेगा और वस्तुएं भी व्यवस्थित हों जाएगी |

9. अस्वीकृति के लिए तैयार रहें : Be prepared for rejection

अगर आपकी सलाह या काम को करने से कोई मना करता है तो याद रखे “आपने क्या खोया” | निराश ना हो “अस्वीकृति” हर इन्सान का बुनियादी अधिकार है | मना करने वाला चाहे कोई भी हो | ज्यादा से ज्यादा क्या कह सकता है सिर्फ “न” | इससे ज्यादा ख़राब वह नहीं कह सकता | इससे आपका कुछ भी नहीं गया |
ये सीखना बहुत जरूरी है कि हमें जीवन में जो कुछ भी चाहिए वह हमें मांगना ही पड़ेगा । कभी-कभी आप इसे प्राप्त कर लेते हैं, और कभी-कभी ऐसा नहीं होता। लेकिन, आपको पूछना होगा । जो कुछ भी आप चाहते हैं चाहे ये आपके ऑफिस में हो या घरेलू रिश्तों में या जीवन में कहीं भी | आपको अस्वीकृति के लिए हमेशा तैयार रहना होगा | ये बार बार आएगी लेकिन कभी कभी आने वाली “हाँ” आपके जीवन को संतोषजनक बना देगी |

10. अपने धैर्य का अभ्यास करने के लिए निराशाजनक क्षणों का उपयोग करें : Use depressing moments to practice your patience

किसी कॉफी शॉप या बैंक की लाइन में या McDonald’s में जब आपको सामने वाला व्यक्ति दुनिया के सबसे धीमे व्यक्ति के रूप में दिखाई दे । उन क्षणों में, जब कहीं नहीं जाना है, कुछ भी नहीं करना है, और कहीं व्यस्त नहीं है, तो ये कहना चाहूँगा “यही आपके धैर्य का अभ्यास करने का एक सही समय है |”

इस वाक्य को निराशाजनक क्षणों में भी लागू करें, जैसे कि जब आप के टेबल पर गलती से कोई चाय का प्याला गिरा दे या कोई अन्य घटना हो या आपका मन एक फालतू ईमेल लिखने के लिए ललचाएँ। कुछ सांसें लें। अपने परिवेश पर ध्यान दें। कुछ विचार करें । और, हाँ, अपने धैर्य का अभ्यास करें। ये 10 छोटी छोटी आदतें जो आपकी जिंदगी बदल देंगी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *